Captions Quote Status

380+ Bewafa Shayari in Hindi

380+ Bewafa Shayari in Hindi, Breakup Sad Shayari in Hindi
380+ Bewafa Shayari in Hindi, Breakup Sad Shayari in Hindi

380+ Bewafa Shayari in Hindi With HD Images:- If You Are Looking For Bewafa Shayari in Hindi, Then You Will Not Find Such A Selective Bewafa Shayari, Which Gives Tremendous Heartburn. Even If You Burn Your Phone’s Flash Light, You Will Not Find It. Dear Friends, Friends And Their Beautiful Friends, Brothers And Our Dear Sisters, We Have Brought For You Today The Painful Filled Bewafa Shayari Which Will Make You Relive Some Old Memories. You Are Requested That If You Have Cheated In Your Love Or Your Love Has Left You Or You Have Not Been Able To Fulfill Your Love, There Must Have Been Some Helplessness, Then Please Express Your Pain In The Comment Box And Get Angry. Your Mind Will Become Lighter. Hare in This You Will Get 380+ Bewafa Shayari in Hindi With HD Images That’s You Will Send With Your Lovers Who Are Break Your Heart, All Those Sayaris Are Your own Language So Why You Wating For Simply Put it Your Whatsapp Stories And Facebook Stories.

Bewafa Shayari in Hindi, Broken Heart Shayari, Sad Shayari in Hindi, Verry Sad Hindi Shayari Collections That’s Make You Cry, Breakup Sad Sayari in Hindi, Alone Sad Shayari in Hindi, Alone Brocker Heart Sad Hindi Shayari, Hindi Love Sad Sayari in Hindi, Single Life Quotes in Hindi, Bewafa Quotes Status in Hindi

Also, Read:-   Dard Bhari Shayari With Images in Hindi
https://web.whatsapp.com

Good News For All PagalStatus, Visitors, Hare You Will Download our Official Applications And Install in Your Android Phone, Enjoy The Daily Latest Status Videos & Quotes Status Whatsapp DP Images

इतनी मुश्किल भी न थी राह मेरी मोहब्बत की, कुछ ज़माना खिलाफ हुआ कुछ वो बेवफा हुए।

अगर दुनिया में जीने की चाहत ना होती, तो खुदा ने मोहब्बत बनाई ना होती, लोग मरने की आरज़ू ना करते, अगर मोहब्बत में बेवाफ़ाई ना होती..!!

बस इतनी सी ही कहानी थी मेरी मोहब्बत की, मौसम की तरह तुम बदल गए, फसल की तरह मैं बरबाद हो गया..!!

क्यों जिंदगी से इस तरह तुम दूर हो गए, क्या बात है जो इस तरह मगरूर हो गए..!! हम तरसते रहे तुम्हारा प्यार पाने को, बेवफा बनकर तुम तो मशहूर हो गए..!!

सब कुछ मिला बस खुदाई के सिवा, ज़िंदगी बहुत पसंद आई रुसवाई के सिवा, मेरी चाहत का एहसास भी न होगा, उसकी हर अदा पसंद आई बेवफ़ाई के सिवा..!!

दिल से रोये मगर होंठो से मुस्कुरा बेठे, यूँ ही हम किसी से वफ़ा निभा बेठे, वो हमे एक लम्हा न दे पाए अपने प्यार का, और हम उनके लिये जिंदगी लुटा बेठे..!

कोई अच्छी सी सज़ा दो मुझको, चलो ऐसा करो भूला दो मुझको, तुमसे बिछड़ूँ तो मौत आ जाये, दिल की गहराई से ऐसी दुआ दो मुझको…!

रुसवा क्यों करते हो तुम इश्क़ को, ए दुनिया वालो, मेहबूब तुम्हारा बेवफा है, तो इश्क़ का क्या गुनाह है।

हमने वक़्त से बहुत वफ़ा की लेकिन , वक़्त हमसे बेवफाई कर गया, कुछ तो हमारे नसीब बुरे थे, कुछ लोगों का हमसे जी भर गया..

भुला देंगे तुमे भी, ज़रा सबर तो कीजिए, तुम्हारी तरह बेवफा होने मे थोड़ा वक़्त तो लगेगा..!!

हमें तो कबसे पता था की तू बेवफ़ा है! तुझे चाहा इसलिए कि शायद तेरी फितरत बदल जाये!!

ये बेवफा, वफा की कीमत क्या जाने, ये बेवफा गम-ए-मोहब्बत क्या जाने, जिन्हे मिलता है हर मोड पर नया हमसफर, वो भला प्यार की कीमत क्या जाने..!!

जुल्मो सितम सहते रहे, एक बेवफा की आस मे..! डुबो दिया मुझे दरिया ने, दो घूट की प्यास में..!!

जब तक न लगे ठोकर बेवाफ़ाई की, हर किसी को अपनी पसंद पर नाज़ होता है।

बड़े सुकून से रहते है अब वो मेरे बिना… जैसे किसी उलझन से छुटकारा मिल गया हो….

उनकी नजर मै फर्क आज भी नहीं, पहले मुड़ कर देखते थे, अब देख कर मुड़ जाते है।

इजाज़त हो तो तेरे चहेरे को देख लूँ जी भर के… मुद्दतों से इन आँखों ने कोई बेवफा नहीं देखा।

सुकून की तलाश में हम दिल बेचने निकले थे, खरीददार दर्द भी दे गया और दिल भी ले गया..!!

कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी, कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी, बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने, आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी..!!

हमारे हर सवाल का सिर्फ एक ही जवाब आया, पैगाम जो पहूँचा हम तक, बेवफा इल्जाम आया।

पत्थरों से प्यार किया नादान थे हम, ग़लती हुई क्यू के इंसान थे हम, आज जिन्हे हमसे नजरें मिलाने मे तकलीफ़ होती है, कभी उसी शख्स की जान थे हम..!!

उन्होंने हमें आजमाकर देख लिया, इक धोखा हमने भी खा कर देख लिया, क्या हुआ हम हुए जो उदास, उन्होंने तो अपना दिल बहला के देख लिया..!!

तेरी बेवफाई का सौ बार शुक्रिया, मेरी जान छूटी… इश्क़-ऐ-बवाल से..!!

दाद देते है हम तुम्हारे नजरअंदाज करने के हुनर को, जिस ने भी सिखाया है वो उस्ताद कमाल का होगा।

वो छोड़ के गए हमें, न जाने उनकी क्या मजबूरी थी, खुदा ने कहा इसमें उनका कोई कसूर नहीं, ये कहानी तो मैंने लिखी ही अधूरी थी..!!

आग दिल में लगी जब वो खफ़ा हुए..! महसूस हुआ तब, जब वो जुदा हुए..! करके वफ़ा कुछ दे ना सके वो..! पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफ़ा हुए..!!

तुम समझ लेना बेवफा मुझको, मै तुम्हे मगरूर मान लूँगा ये वजह अच्छी होगी, एक दूसरे को भूल जाने के लिये..!!

मेरी आँखों से बहने वाला ये आवारा सा आसूँ, पूछ रहा है पलकों से तेरी बेवफाई की वजह।

कैसे यकीन करें हम तेरी मोहब्बत का, जब बिकती है बेवफाई तेरे ही नाम से।

कैसे यकीन करें हम तेरी मोहब्बत का, जब बिकती है बेवफाई तेरे ही नाम से।

आपकी नशीली यादों में डूबकर, हमने इश्क की गहराई को समझा, आप तो दे रहे थे धोखा और, हमने जानकर भी कभी आपको बेवफा न समझा..!!

जुल्मो सितम सहते रहे, एक बेवफा की आस मे..! डुबो दिया मुझे दरिया ने, दो घूट की प्यास में..!!

जाते-जाते उसके आखिरी अल्फाज़ यही थे, जी सको तो जी लेना मर जाओ तो बेहतर है।

ज़हर देता है कोई, कोई दवा देता है, जो भी मिलता है मेरा दर्द बढ़ा देता है।

बहुत अजीब सिलसिले है मोहब्बत इश्क मैं, कोई वफ़ा के लिए रोया तो कोई वफ़ा कर के रोया।

मोहब्बत से भरी कोई गजल उसे पसंद नहीं, बेवफाई के हर शेर पे वो दाद दिया करते हैं..!!

रोये कुछ इस तरह से मेरे जिस्म से लग के वो, ऐसा लगा कि जैसे कभी बेवफा न थे वो।

आपकी नशीली यादों में डूबकर, हमने इश्क की गहराई को समझा, आप तो दे रहे थे धोखा और, हमने जानकर भी कभी आपको बेवफा न समझा..!!

जिस किसी को भी चाहो वो बेवफा हो जाता है, सर अगर झुकाओ तो सनम खुदा हो जाता है, जब तक काम आते रहो हमसफ़र कहलाते रहो, काम निकल जाने पर हमसफ़र कोई दूसरा हो जाता है..!!

आज अचानक तेरी याद ने मुझे रुला दिया, क्या करू तुमने जो मुझे भुला दिया, न करते वफ़ा न मिलती ये सजा, शायद मेरी वफ़ा ने ही तुझे बेवफा बना दिया..!!

महफ़िल में गले मिल के वो धीरे से कह गए, ये दुनिया की रस्म है मोहब्बत न समझ लेना।

आज हम उनको बेवफा बताकर आए है, उनके खतो को पानी में बहाकर आए है, कोई निकाल न ले उन्हें पानी से.. इस लिए पानी में भी आग लगा कर आए है..!!

वो पानी की लहरों पे क्या लिख रहा था, खुदा जाने वो क्या लिख रहा था, मोहब्बत में मिली थी नफरत उसे भी शायद, इसलिए हर शख्स को शायद बेवफा लिख रहा था..!!

आपकी नशीली यादों में डूबकर, हमने इश्क की गहराई को समझा, आप तो दे रहे थे धोखा और, हमने जानकर भी कभी आपको बेवफा न समझा..!!

फिर से निकलेंगे तलाश-ए-ज़िन्दगी में, दुआ करना इस बार कोई बेवफा न निकले।

हसीनो ने हसीन बनकर गुनाह किया, औरों को तो ठीक पर हम को भी तबाह किया, अर्ज़ किया जब ग़ज़लों मे उनकी बेवफ़ाई को तो, औरों ने तो ठीक उन्होने भी वा वा किया..!!

सब के होते हुए भी तन्हाई मिलती हे, यादो में भी गम की परछाई मिलती हे, जितनी भी दुआ करते हे किसी को पाने की, उतनी ही उनसे बेवफाई मिलती है..!!

मेरी वफा के क़ाबिल नही हो तुम, प्यार मिले ऐसे इन्सान नही हो तुम, दिल क्या तुम पर ऐतबार करेगा, प्यार मे धोखा दिया ऐसे बेवफा हो तुम..!!

वो सुना रहे थे अपनी वफाओं के किस्से, हम पर नजर पड़ी तो खामोश हो गये।

मुहब्बत में क्यों बेवफ़ाई होती है, सुना था प्यार में गहराई होती है, टूट कर चाहने वाले के नसीब में, क्यों सिर्फ तन्हाई होती है..!!

बेवफाई का मौसम भी अब यहाँ आने लगा है, वो फिर से किसी और को देख कर मुस्कुराने लगा है..!!

वो छोड़ के गए हमें, न जाने उनकी क्या मजबूरी थी, खुदा ने कहा इसमें उनका कोई कसूर नहीं, ये कहानी तो मैंने लिखी ही अधूरी थी..!!

I Hope You Will Find Best Content What Are Searching For 380+ Bewafa Shayari in Hindi. Are You Really Like our Status Video So Please Don’t Forget To Shear With Your Friends. Thanks For Visiting PagalStatus.Com